//
you're reading...
My Expressions

खुद को पाने की खुद से लड़ाई

कभी लगता है पीछे छूट गया हूँ, सबके के साथ था और आज कही हूँ ही नहीं.
जीवन मेरी परीक्षा ले रहा है या मैं खुद ही भटक गया हूँ पता ही नहीं है
“जीवन सरल है जीते ही जाओ, दुसरो के नहीं अपने सपनो के पीछे जान लगाओ ”
यही सोच के जीवन को आगे बढ़ाया था, नया करने को और जोर लगाया था
दो साल लगा दिया है एक ही आश मैं, जो कही नहीं दिख रही है दूर दूर तक
“आराम से अपना ख्वाब जी तो रहा था वही होता तो कही आगे पहुच चुका होता शायद” ऐसा भी दिल कहता है, पर चांस का अपना मजा है ये भी तो नहीं झूट नहीं है.
सब के अपने अपने तर्क है मुझे समझने के लिए, मुझे बहलाने के लिए
माँ बोलती है- “बेटा पटवारी से शुरू करता कहा सीधे तू इतने उप्पर देखने लगा” पहले सुन के लगा कितना छोटा सोचती है मेरे लिए… फिर समझ मैं आया की नालायक वो कभी तुझे हारते नहीं देखना चाहती वो चाहती है मैं हमेशा जीतते रहू. उसे नहीं मतलब मैं क्या बनता हूँ उसे तो ये मतलब है की बस दूर से फ़ोन मैं जब भी बात हो अच्छी आवाज मैं खुशी से बात करू उससे.
पाप बोलते है “बेटा नहीं हुआ पर कोई बात नहीं अब कोटा बढ़ गया है तो कंपेटिशन ज्यादा हो गया है इसलिए नहीं हुआ” उन्हें भी पता है और मुझे भी की वो मेरा दिल रखने को ये सब बोल रहे है, अब ये कैसे बोले की तू निकल नहीं पाया और यही सत्य है.
भाई भाभी बोलते है तू हमारा चैंपियन है टेंशन ना ले, पर कैसे ना लूँ टेंशन वो कोई नहीं बता पाता.
दोस्तों से बात होती है तो सबकी ऐसी परेशानिया है जो मेरे लिए है ही नहीं कोई समस्या.
पर मेरी जो परेशानी है वो भी तो उनकी समस्या नहीं है.
कोचिंग मैं दोस्त बोलते है आपको नॉलेज है आप निकाल लोगे, उन्हें कैसे समझाऊ पेपर मैं नहीं अपने भ्रम मैं फॅसा हूँ, अभी उससे कैसे निकलू. वहाँ से निकला तो पेपर तो निकल ही जायेगा.
पढ़ने की कोशिश की तो दिमाग घूमता रहता है क्या करना कैसे करना है जीवन कहा जा रहा है क्या करना है कब तक बैठा रहेगा अनगिनत सवाल और जवाब एक भी सवाल का नही है.
ऐसा नही है की मुझे पता नही है कल क्या होगा. पता है सब अच्छा होगा समय लगेगा पर सब अच्छा होगा पर साला दिमाग का क्या जो बार फिर दुसरो से मुकाबला करने मैं ही घंटे लगा देता है.

भगवान शक्ति दे सामर्थ्य दे जो राह दिखाई थी उसपे चलने की हिम्मत दे. अब मजबूर ना करना सेटलमेंट करने के लिए लाइफ मैं. आदत छूट गयी है दुसरो के हिसाब से दुसरो के ख्वाबो के लिए सेट हो जाने की, ढल जाने की

Advertisements

About Yogesh

Exploring self.

Discussion

No comments yet.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow Yogesh Bhatt on WordPress.com
%d bloggers like this: